क्यों…

चीथड़े बिखरे पड़े थे मेरी रूह और जिस्म के
वो लोथड़े टटोल कर मेरा मज़हब ढूंढ़ते रहे. ..

Feed the hungry blog: Share the care
0

#differently abled

स्टापू खेलते खेलते मस्ती में छपाक से
हड़काते लुढ़काते वक़्त ठेल दिया हमने
दो पैरों वाले को मगर जिन्दगी बोझ लगती है

Feed the hungry blog: Share the care
0

फिर

आज फिर वही बात हो गई
सुबह ढूंढते ढूंढते रात हो गई

पियूष कौशल

Feed the hungry blog: Share the care
0

अमा छोड़ो यार…

यूं ही बेसबब बेफिक्र बेहिसाब जिया करो
जहां जिन्दगी का नशा हो जरा झूम के पिया करो

लोग तो परेशान यूं ही रहेंगे हर बात से
इसका अच्छा तो उसका बुरा है, जो मन में आए किया करो

चौखट पे धूप रहने दो, होंठों पे हल्की सी मुस्कान
जहां अंधेरे दिखें, उजाले उड़ा दिया करो

लोगों को आपस में ही करने दो सारी बातें
अमा छोड़ो यार तुम आसमान से बातें किया करो

Feed the hungry blog: Share the care
0

हर हर महादेव…

“एक से सौ एक एक
सौ निर्गुण सगुण एक
राम रावण सबके एक
देव कोटि, महादेव एक”

हर हर महादेव…

Feed the hungry blog: Share the care
0

पर्दा

वक़्त के साथ हथेली पर चढ़ गया है एक सफ़ेद पर्दा
दिन रात खुद से आंखें बचाकर इस पर उंगलियां घुमाता हूँ
मानो कोई जादू ही है, ये रहा शर्मा और वो अख्तर…
मिलाता सबसे है पर मिलने किसी से नहीं देता
वो जो किस्से कहानियां होती थी हर शाम सुनने सुनाने को
आजकल बड़ी जल्दी में रहती है, टाइम लाइन से होकर बड़ी तपाक से गुजर जाती है
बुआ, चाचा, मामा सब यहीं हैं इन हाथों में – ऐंठे से मुस्कुराते अपनी फोटो से
यादें मगर कुछ गमगीन नज़र आती हैं
इस सफ़ेद परदे की काली करतूतें रंगीन नज़र आती हैं

पियूष कौशल

Feed the hungry blog: Share the care
0