आंच

तुम भी चढ़ाकर देखो अपने से किसी रिश्ते को
मतलब की आंच पर,
हमने अच्छे अच्छों को वहां रंग बदलते देखा है…

                                                               पियूष कौशल

Feed the hungry blog: Share the care
0

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *